उत्तराखंड में ओटीटी प्लेटफार्म के लिए जल्द बनेगी पालिसी : मंत्री सतपाल महाराज

Manthan India
0 0
Read Time:3 Minute, 26 Second

संस्कृति एवं पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने कहा कि क्षेत्रीय फिल्मों को बढ़ावा मिले इस दिशा में लगातार प्रयास किए जा रहे हैं। अब सब डिजिटल हो रहा है ऐसे में उत्तराखंड में ओटीटी प्लेटफार्म के लिए जल्द पालिसी बनाई जाएगी और प्रोत्साहित किया जाएगा।

सोमवार को रिंग रोड स्थित होटल पर्ल एवेन्यू में उत्तराखंड का पहला गढ़वाली कुमांऊनी ओटीटी प्लेटफार्म एप ‘अम्बे सिने’ की लांचिंग के दौरान संस्कृति एवं पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने कहा कि सिंगल विंडो सिस्टम को आनलाइन करने पर कार्य करेंगे। उन्होंने कहा कि ओटीटी प्लेटफार्म पर राज्य सरकार की ओर से अब तक सब्सिडी का प्रावधान नहीं है।

सरकार ओटीटी प्लेटफार्म के लिए पालिसी बनाने का प्रयास कर रही है। इसके लिए संस्कृति से जुड़े लोग अपने सुझाव भी सरकार को दे सकते हैं। कहा कि ढोल सागर को बढ़ावा मिले और गिनीज बुक आफ रिकार्ड में दर्ज हो इसके लिए जल्द ही वृहद आयोजन किया जाएगा। ढोल सागर की संस्कृति को जिंदा रखने वालों को रिकार्ड बनने के बाद सम्मानित किया जाएगा।

कोरोनाकाल में टूरिज्म में जिनको नुकसान हुआ उसकी भरपाई की कोशिश की जा रही है। इस बार काफी संख्या में पर्यटक पहुंचे हैं। विंटर टूरिज्म को भी बढ़ावा मिलेगा। भविष्य का विकास उत्तराखंड शैली का हो इसके लिए सरकार लगातार कार्य कर रही है।

अम्बे सिने एप के संस्थापक सदस्य अनुज जोशी ने बताया कि मनोरंजन की दुनिया के साथ अपनी संस्कृति से जुड़े लोगों को एक अंब्रेला में खड़े करने का प्रयास है। इस प्लेटफार्म की मदद से अब गढ़वाली कुमाऊनी फिल्में, वेबसीरिज, शार्ट फिल्म, डॉक्यूमेंट्री एक जगह पर देखने को मिलेगी। कई साल का सपना था कि उत्तराखंड को ओटीटी प्लेटफार्म मिले। पांच साल से इस पर कार्य किया गया। लोकभाषा को बचाने और संस्कृति को दर्शाने के लिए यह प्रयास किया गया है।

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

सेना का सहायक अकाउंटेंट हनी ट्रैप में फंसा, पाकिस्तानी महिला ने ऐसे फेंका था हुस्न का जाल

रुड़की छावनी का एक सहायक अकाउंटेंट हनी ट्रैप में फंस गया। सिविल लाइंस कोतवाली में शासकीय गुप्त बात अधिनियम समेत अन्य धाराओं में सैन्यकर्मी के खिलाफ केस दर्ज कराया गया है। फोन को मेरठ के सैन्य अधिकारियों ने कब्जे में लिया है। पुलिस आरोपी को हिरासत में लेकर पूछताछ कर […]

Subscribe US Now